Menu

Priyanka targets corruption in Uttar Pradesh, know abuot it !…


कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने गुरुवार को उत्तर प्रदेश सरकार पर भ्रष्टाचार को लेकर हमला किया और बिजली विभाग के एक जूनियर इंजीनियर द्वारा कथित तौर पर प्रताड़ित किए जाने के बाद एक व्यक्ति द्वारा आत्महत्या किए जाने पर दुख जताया। नीरज कुमार ने 9 जुलाई को बिजनौर में कलेक्ट्रेट कैंप कार्यालय में अपनी जान दे दी।
प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया, “उत्तर प्रदेश में नीरज जैसे बहुत से नागरिक परेशान हैं। उनसे धन ऐंठा जा रहा है और उनकी सुनने वाला कोई नहीं है।”
उन्होंने आरोप लगाया कि इंजीनियर लगातार उनसे (नीरज) पैसे की मांग कर रहा था, नीरज ने हाल ही में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाकर राष्ट्रपति से इच्छामृत्यु की मांग की थी।
न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

Previous articleवास्तु के अनुसार ऊंट की मूर्ति को घर में रखने से होने वाले लाभNext articleजापान में पॉपुलर हो रही है रेंटल कार सर्विस, लोग इस काम के लिए कर रहे हैं ज्यादा इस्तेमाल बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू। ..

(साभार :  एजेन्सी / संवाददाता  / अन्य न्यूज़ पोर्टल )

ताजा खबरों के अपडेट लगातार पाने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें| आप हमें ट्वीटर पर भी फॉलो कर सकते हैं|

loading...

LIVE TV

Sorry, there’s no live stream at the moment. Please check back later or take a look at all of our videos.

This service is only Available when we are Live.

Like us on Facebook