Menu

मोदी सरकार अब गांवों में लाएगी सुधार , ग्राम सड़क योजना में शुरू हुआ कार्य… > Live Today…

देश भर के ग्रामीण इलाकों में सड़कों का जाल बिछाने के लिए मोदी सरकार ने प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तीसरे चरण (PMGSY-III) को मंजूरी दे दी है. इस पर 80,000 करोड़ रुपये से ज्यादा की लागत आएगी. PMGSY-III के तहत सरकार ने देश भर में कुल 1.25 लाख किमी लंबी सड़कें बनाने का प्रस्ताव रखा है.

बतादें कीकैबिनेट द्वारा जारी बयान में कहा गया है, ‘इससे गांव-गांव को ग्रामीण कृषि बाजारों, उच्च प्राथमिक स्कूलों और अस्पतालों से जोड़ने का प्रयास किया जाएगा.’  इस योजना पर शुरुआती दौर में 80,250 करोड़ रुपये की लागत आएगी जिसमें 53,800 करोड़ रुपये केंद्र सरकार और 26,450 करोड़ रुपये राज्य सरकार खर्च करेगी.
12वीं पास के लिए सुनहरा मौका, यहां निकली हैं 7000 से ज्यादा पदों पर भर्ती
जहां बयान में कहा गया है, ‘यह फंड केंद्र और राज्यों के बीच 60:40 के अनुपात में खर्च किया जाएगा, हालांकि पूर्वोत्तर के राज्यों और 3 हिमालयी राज्यों (जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड) में यह अनुपात 90:10 का होगा.’
वहीं प्रधानमंत्री सड़क योजना के दो चरणों (PMGSY-I, PMGSY-II) और वामपंथी चरमपंथ वाले इलाकों में सड़क संपर्क परियोजना (RCPLWEA) के तहत अब तक देश में कुल 5.99 लाख किमी सड़कों का निर्माण हो चुका है. साल 2018-19 का बजट पेश करते हुए तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने PMGSY-III योजना शुरू करने की घोषणा की थी.PMGSY-III के तहत अगले पांच साल में देश में सड़क संपर्क के मामले में एक तरह से कायाकल्प हो जाना है. सड़कों के निर्माण में इस बार बाजार, स्कूल और अस्पतालों तक पहुंच का ध्यान रखा जाएगा. अब मैदानी इलाकों में 150 मीटर ऊंचे और पहाड़ी इलाकों में 200 मीटर ऊंचे पुल का निर्माण हो सकेगा, जबकि अभी तक मैदानी इलाकों में 75 मीटर और पहाड़ी इलाकों में 100 मीटर ऊंचे पुल का निर्माण होता था. किसी राज्य में PMGSY-III लागू करने से पहले वहां की सरकार को केंद्र से एक एमओयू करना होगा जिसके द्वारा यह सुनिश्चित करना होगा कि सड़क निर्माण के पांच साल तक इनकी मरम्मत के लिए पर्याप्त धन हासिल किया जा सके.
दरअसल अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के कार्यकाल में 25 दिसंबर, 2000 को शुरू हुई इस योजना का उद्देश्य पूरे देश में सड़क मार्ग से न जुड़ सके सभी स्थानों को हर मौसम में काम लायक पक्की सड़कों से जोडऩा था. प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की शुरुआत केंद्र सरकार से 100 प्रतिशत सहायता प्राप्त योजना के रूप में हुई थी.
साल 2014 मोदी सरकार के सत्ता में आने के समय तक देश में कुल 56 प्रतिशत ग्रामीण सड़कें पक्की थीं. केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल का दावा है कि मोदी के शासनकाल में ‘प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना का आकार तिगुना हो गया है.” ग्रामीण विकास मंत्रालय का दावा है कि मार्च-अप्रैल 2019 तक 95-97 प्रतिशत गांवों को सड़कों से जोड़ दिए जाने का लक्ष्य है.
 

..

(साभार :  एजेन्सी / संवाददाता  / अन्य न्यूज़ पोर्टल )

ताजा खबरों के अपडेट लगातार पाने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें| आप हमें ट्वीटर पर भी फॉलो कर सकते हैं|

loading...

LIVE TV

Sorry, there’s no live stream at the moment. Please check back later or take a look at all of our videos.

This service is only Available when we are Live.

Like us on Facebook